अन्नकूट के प्रसाद से होती है गोवर्धन पूजा, जानिए क्यों है इसका महत्व...
Updated : 2018-11-08 14:24:51

Image


दिवाली के दूसरे दिन गोवर्धन पूजा का विशेष आयोजन होता है। गोवर्धन पूजा को लोग अन्नकूट के नाम से भी जानते हैं। इस पर्व की अपनी मान्यता और लोककथा है। इस त्योहार का भारतीय लोकजीवन में काफी महत्व है। इस पर्व में प्रकृति के साथ मानव का सीधा संबंध दिखाई देता है। भगवान श्रीकृष्ण ने इसी दिन इंद्र का मानमर्दन कर गिरिराज पूजन किया था। इस दिन मंदिरों में अन्नकूट किया जाता है। अन्नकूट एक प्रकार से सामूहिक भोज का आयोजन है, जिसमें पूरा परिवार एक जगह बनाई गई रसोई से भोजन करता है। इस दिन चावल, बाजरा, कढ़ी, साबुत मूंग सभी सब्जियां एक जगह मिलाकर बनाई जाती हैं। 

मंदिरों में भी अन्नकूट बनाकर प्रसाद के रूप में बांटा जाता है। शाम में गोबर के गोवर्धन बनाकर पूजा की जाती है। गोवर्धन पूजा में गोधन यानी गायों की पूजा की जाती है। शास्त्रों में बताया गया है कि गाय उसी प्रकार पवित्र होती जैसे नदियों में गंगा। गाय को देवी लक्ष्मी का स्वरूप भी कहा गया है। देवी लक्ष्मी जिस प्रकार सुख समृद्धि प्रदान करती हैं, उसी प्रकार गौ माता भी अपने दूध से स्वास्थ्य रूपी धन प्रदान करती हैं। इनका बछड़ा खेतों में हल जोतकर अनाज उगाता है। इस तरह गौ संपूर्ण मानव जाति के लिए पूजनीय और आदरणीय है। गौ के प्रति श्रद्धा प्रकट करने के लिए ही कार्तिक शुक्ल पक्ष प्रतिपदा के दिन गोर्वधन की पूजा की जाती है और इसके प्रतीक के रूप में गाय की। वेदों में इस दिन वरुण, इंद्र, अग्नि आदि देवताओं की पूजा का विधान है। 

इसी दिन बलि पूजा, गोवर्धन पूजा होती हैं। इस दिन गाय-बैल आदि पशुओं को स्नान कराकर, फूल माला, धूप, चंदन आदि से उनका पूजन किया जाता है। गायों को मिठाई खिलाकर उनकी आरती उतारी जाती है। यह ब्रजवासियों का मुख्य त्योहार है। अन्नकूट या गोवर्धन पूजा भगवान कृष्ण के अवतार के बाद द्वापर युग से प्रारंभ हुई। उस समय लोग इंद्र भगवान की पूजा करते थे व छप्पन प्रकार के भोजन बनाकर तरह-तरह के पकवान व मिठाइयों का भोग लगाया जाता था। महाराष्ट्र में यह दिन बलि प्रतिपदा या बलि पड़वा के रूप में मनाया जाता है। वामन जो कि भगवान विष्णु के एक अवतार है, उनकी राजा बलि पर विजय और बाद में बलि को पाताल लोक भेजने के कारण इस दिन उनका पुण्यस्मरण किया जाता है। 

माना जाता है कि भगवान वामन द्वारा दिए गए वरदान के कारण असुर राजा बलि इस दिन पातल लोक से पृथ्वी लोक आते हैं। अधिकतर गोवर्धन पूजा का दिन गुजराती नववर्ष के दिन के साथ मिल जाता है जो कि कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष के दौरान मनाया जाता है। गोवर्धन पूजा उत्सव गुजराती नववर्ष के दिन के एक दिन पहले मनाया जा सकता है और यह प्रतिपदा तिथि के प्रारंभ होने के समय पर निर्भर करता है। इस दिन प्रात: गाय के गोबर से लेटे हुए पुरुष के रूप में गोवर्धन बनाया जाता है। अनेक स्थानों पर इसके मनुष्याकार बनाकर पुष्पों, लताओं आदि से सजाया जाता है। इनकी नाभि के स्थान पर एक कटोरी या मिट्टी का दीपक रख दिया जाता है। फिर इसमें दूध, दही, गंगाजल, शहद, बताशे आदि पूजा करते समय डाल दिए जाते हैं और बाद में इसे प्रसाद के रूप में बांट देते हैं। शाम को गोवर्धन की पूजा की जाती है। पूजा में धूप, दीप, नैवेद्य, जल, फल, फूल, खील, बताशे आदि का प्रयोग किया जाता है। पूजा के बाद गोवर्धनजी की जय बोलते हुए उनकी सात परिक्रमाएं लगाई जाती हैं।






Pic

Logo
नई दिल्ली (एजेंसी) >>>>>>>> छठ पर्व, छठ या षष्ठी पूजा कार्तिक शुक्ल पक्ष के षष्ठी को मनाया जाने वाला एक हिन्दू पर्व है। आस्था पर्व छठ पूजा की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। दूर-दराज रहने वाले भोजपुरी लोग भी इस मौके पर अपने घर पहुंचने तैयारी पूरी कर चुके हैं। वैसे तो साल में दो बार छठ का महोत्सव पूर्ण श्रद्धा और आस्था से मनाया जाता है। ऐसे में पहला छठ पर्व चैत्र माह में तो दूसरा कार्ति... Read more
Logo
देवताओं की आराधना के लिए कार्तिक मास को धार्मिक ग्रन्थों में अत्यन्त महत्वपूर्ण माना गया है। इस मास में श्रद्धालुओं के लिए पांच आचरणों का पालन करने पर जोर दिया जाता है। यह पांच आचरण हैं- दीप दान, पवित्र नदी में स्नान, तुलसी का पूजन, भूमि पर शयन, पवित्र आचरण बनाए रखना और दालों के सेवन से परहेज। कार्तिक मास में इन सभी आचरणों का नियम पूर्वक पालन करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होकर अपना शु... Read more
Logo
नई दिल्ली (एजेंसी) >>>>>>>> पांच दिन के त्योहार के चौथे यानि दिवाली के अगले दिन गोवर्धन पूजा की जाती है. देशभर में आज (8 नवंबर) गोवर्धन का त्योहार मनाया जा रहा है. इस दिन भगवान कृष्‍ण, गोवर्धन पर्वत और गायों की पूजा का विधान है. इस त्योहार पर गोबर से घर के आंगन में गोवर्धन पर्वत का चित्र बनाकर पूजन किया जाता है. मान्‍यता है कि इसी दिन भगवान कृष्‍ण ने देव राज इन्‍द्र के घमंड को चूर-चू... Read more
Logo
पूरे देश में त्योहार दीवावली का आगाज हो चुका है। दिवाली को लेकर सभी घरों में तैयारियां लगभग पूरी हो गई है। दिवाली का त्योहार देश और दुनिया में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। इस बार दिवाली 7 नवंबर 2018 को मनाई जाएगी। दीपावली के शुभ पर्व पर सभी घरों में दिए और दीपक जलाए जाएंगे।  हर घर में पर्व के पांच दिनों तक घर को दीयों से सजाया जाएगा। दीपावली के दिन मां लक्ष्मी और गणेश जी की विशेष पूजा क... Read more
Logo
रोशनी का त्योहार दीवावली का आगाज हो चुका है। दिवाली नजदीक आ गई है और सभी घरों में तैयारियां जोरो पर हैं। दीपावली के शुभ पर्व पर सभी घरों में दिए और दीपक जलाए जाएंगे। हर घर में पर्व के पांच दिनों तक घर को दीयों से सजाया जाएगा। इस बार दिवाली 7 नंबवबर को है और आप सभी जानते ही हैं कि दीपावली के दिन मां लक्ष्मी और गणेश जी की विशेष पूजा की जाती है। ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं दिवाली के द... Read more
Logo
नरक चतुर्दशी जिसे लोग रूप चौदस भी कहते हैं। कार्तिक मास के कृृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को नरक चतुर्दशी, यम चतुर्दशी या फिर रूप चतुर्दशी कहते हैं। इस दिन महिलाएं अपना श्रृंगार कर, अपने रूप को निखारती हैं। इसके अलावा इस दिन यमराज को ​खुश करने के लिए यमराज की पूजा करते हैं और व्रत करने का विधान भी है।  स्वच्छता और सुंदरता से आती है मां लक्ष्मी शास्त्रों के अनुसार देवी मां लक्ष्मी उसी घर म... Read more
Logo
दिवाली को लेकर भारत के हर कोने में तैयारियां शुरु हो गई है। रोशनी का त्योहार दिवाली का आगाज हो चुका है। दिवाली का त्यौहार सभी के लिए खास होता हैं और इस दिन टोन टोटके का भी महत्व होता हैं। ऐसे में यह दिन दीपों और रोशनी का त्यौहार माना जाता हैं। इस बार दिवाली 7 नंबवबर को है और आप सभी जानते ही हैं कि दीपावली के दिन मां लक्ष्मी और गणेश जी की विशेष पूजा की जाती है।  ऐसे में आज हम आपको बताने ज... Read more
Logo
नई दिल्ली (एजेंसी) >>>>>>>> धनतेरस दिवाली के ठीक दो दिन पहले मनाया जाता है। इस मौके पर भगवान की कृपा पाने के लिए लोग मेटल या आभूषण आदि की खरीदारी करते हैं। इस दिन रत्न (जेमस्टोन) खरीदना भी शुभ माना जाता है।  ‘खन्ना जेम्स प्राइवेट लिमिटेड’ के संस्थापक व प्रबंध निदेशक पंकज खन्ना और ‘रूप ज्वेलर्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड’ के प्रबंध निदेशक नितिन गुप्ता ने धनतेरस के दौरान रत्... Read more
Logo
नई दिल्ली (एजेंसी) >>>>>>>> आज धनतेरस है. हमारे देश में सर्वाधिक धूमधाम से मनाए जाने वाले त्योहार दिवाली की शुरुआत धनतेरस से हो जाती है. धनतेरस छोटी दिवाली से एक दिन पहले मनाया जाता है. इस दिन कोई भी समान लेना बहुत ही शुभ माना जाता है. धनतेरस पूजा को धनत्रयोदशी के नाम से भी जाना जाता है. आज सोने-चांदी की खरीदारी शुभ मानी जाती है. बर्तन भी खरीदना शुभ माना जाता है. जानें इन सबके पीछे का ध... Read more
Logo
धनी या निर्धन होना सब भाग्य पर निर्भर करता लेकिन कुछ खास तरीकों को अपनाकर भी धनी योग बन सकते हैं। ऐसे योगों को बुलाता है सिद्धिदायक शाबर मंत्र। सिद्धिदायक शाबर मंत्रों की रचना गुरु गोरखनाथ आदि योगियों ने की थी। इन मन्त्रों में प्रत्येक देवता तथा हर प्रकार के उद्देश्यों की पूर्ति के लिए मंत्र दिये गये हैं। इनमें लक्ष्मी प्राप्ति मंत्र भी सम्मिलित हैं।  आधुनिक परिवेश में इन मंत... Read more
Logo
दीवाली का हर किसी को बेसब्री से इंतजार रहता है, लेकिन आपको ये जानकर खुशी होगी की इस दिवाली पर कुछ राशियों की किस्मत चमकाने वाली हैं। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, ब्रह्मांड में ग्रह अपनी दिशा और चाल बदलते रहते हैं। जिसका प्रभाव विभिन्न राशियों पर भी पड़ता है। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, शुक्र ग्रह ने 5 अक्टूबर को अपनी चाल में परिवर्तन किया है। शुक्र ग्रह पीछे की ओर परिक्रमा करने लगा ... Read more
Logo
देशभर में 7 नवंबर को खुशियों और रौशनी का त्यौहार दीपावली मनाया जा रहा है। धन जीवन की सभी आवश्यकताओं को पूरा करने का माध्यम बना हुआ है। धन के अभाव में जीवन कष्टमय होने लगता है। कई बार अथक परिश्रम और प्रयासों के बावजूद अपेक्षित धन लाभ नहीं मिलता है जिससे मानसिक और शारीरिक कष्ट उठाने पड़ते हैं। यहां हम कुछ ऐसे सरल उपाय बता रहे हैं जिन्हें पूर्ण श्रद्धा और विश्वास के साथ अपनाने से जीवन मे... Read more
Logo
देवताओं की आराधना के लिए कार्तिक मास को धार्मिक ग्रन्थों में अत्यन्त महत्वपूर्ण माना गया है। इस मास में श्रद्धालुओं के लिए पांच आचरणों का पालन करने पर जोर दिया जाता है। यह पांच आचरण हैं- दीप दान, पवित्र नदी में स्नान, तुलसी का पूजन, भूमि पर शयन, पवित्र आचरण बनाए रखना और दालों के सेवन से परहेज। कार्तिक मास में इन सभी आचरणों का नियम पूर्वक पालन करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होकर अपना शु... Read more
Logo
कुछ खास काम करने वाले लोगों को धन की देवी मां लक्ष्मी बिल्कुल पसंद नहीं करती और वहां कभी निवास भी नहीं करतीं। वे लोग और कौनसे हैं वे काम आइए जानें कौन से हैं।  गरुड़ पुराण के अनुसार, जो लोग बिना किसी बात या छोटी-छोटी बातों पर दूसरों पर चीखते-चिल्लाते हैं, उन्हें अपशब्द कहते हैं। ऐसे लोगों को भी देवी लक्ष्मी त्याग देती हैं। जो लोग इस प्रकार का व्यवहार अपने जान-पहचान वाले, नौकर या अपने ... Read more
Logo
धनतेरस को धन त्रयोदशी भी कहते है इस दिन भगवान् धन्वन्तरि का जन्म हुआ था। कहते है समुन्द्र मंथन के समय जब धन्वन्तरि का जन्म हुआ तब उनके हाथ में सोने का अमृत से भरा हुआ कलश था। क्योंकि वे कलश लेकर पैदा हुए थे इसीलिए इस दिन बर्तन खरीदने का रिवाज है। धनतेरस के दिन शाम को सूर्य अस्त के बाद दिया जलाएं और पास में कौड़ियां रखें, धनकुबेर और माता लक्ष्मी की पूजा करें। आधी रात के बाद 13 कौड़ियां घर ... Read more
Logo
नई दिल्ली (एजेंसी) >>>>>>>> पति-पत्नी के प्यार का त्यौहार करवा चौथ आज मनाया जा रहा है। इस दिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र की कामना करते हुए व्रत रखती है। वहीं आजकल कुछ पुरुष भी अपनी जीवन संगिनी के साथ भूखे-प्यासे रहते हैं। दोनों रात चांद को देखकर अपना-अपना व्रत खोलकर खाना खाते हैं। इस दिन को और खास बनाने के लिए वो एक-दूसरे को तोहफे देते हैं। करवा चौथ के व्रत को बेहद कठिन माना जाता ... Read more
Logo
करवा चौथ का त्योहार दीपावली से नौ दिन पहले मनाया जाता है। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार करवा चौथ का व्रत हर साल कार्तिक मास की चतुर्थी को आता है। इस बार करवा चौथ का व्रत (कल) यानी 27 अक्टूबर 2018 को है। इस बार करवा चौथ पर अत्यंत शुभ योग बन रहे हैं। पंडितों के अनुसार इस बार 11 साल बाद करवाचौथ पर राजयोग बन रहा है।  इसके साथ ही सर्वार्थसिद्धि और अमृतसिद्धि योग भी बन रहे हैं। तीन एक साथ शुभ योगों के ... Read more
Logo
धनी या निर्धन होना सब भाग्य पर निर्भर करता लेकिन कुछ खास तरीकों को अपनाकर भी धनी योग बन सकते हैं। ऐसे योगों को बुलाता है सिद्धिदायक शाबर मंत्र। सिद्धिदायक शाबर मंत्रों की रचना गुरु गोरखनाथ आदि योगियों ने की थी। इन मन्त्रों में प्रत्येक देवता तथा हर प्रकार के उद्देश्यों की पूर्ति के लिए मंत्र दिये गये हैं। इनमें लक्ष्मी प्राप्ति मंत्र भी सम्मिलित हैं।  आधुनिक परिवेश में इन मंत... Read more
Logo
कुछ खास काम करने वाले लोगों को धन की देवी मां लक्ष्मी बिल्कुल पसंद नहीं करती और वहां कभी निवास भी नहीं करतीं। वे लोग और कौनसे हैं वे काम आइए जानें कौन से हैं।  गरुड़ पुराण के अनुसार, जो लोग बिना किसी बात या छोटी-छोटी बातों पर दूसरों पर चीखते-चिल्लाते हैं, उन्हें अपशब्द कहते हैं। ऐसे लोगों को भी देवी लक्ष्मी त्याग देती हैं। जो लोग इस प्रकार का व्यवहार अपने जान-पहचान वाले, नौकर या अपने ... Read more
Logo
आज शरद पूर्णिमा है। यह रात कई मायने में महत्वपूर्ण है। हिंदू धर्म में शरद पूर्णिमा का बहुत महत्व बताया गया है। इसे कोजागर पूर्णिमा, रास पूर्णिमा, कौमुदी व्रत के नाम से भी जाना जाता है। आश्विन माह के शुक्लपक्ष की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहा जाता है। कहते हैं इस दिन चंद्रमा की किरणों में अमृत भर जाता है और ये किरणें हमारे लिए बहुत लाभदायक होती हैं। हिंदू शास्त्रों के मुताबिक, इस रात ... Read more
Logo
कार्तिक का महीना हिंदू धर्म में सबसे पवित्र और शुभ माना है। इस महीने यदि एक खास पौधे की पूजा नियमित और श्रद्धा से की जाए तो जीवन के सभी सुख झोली में आने लगते हैं। कहते हैं कि अगर कोई अपने मन की बात, भगवान को सीधे न कह सके, तो वह तुलसी के माध्यम से अपनी बात, भगवान तक पहुंचा सकता है। भगवान कृष्ण भी किसी की बात सुनें या न सुनें, लेकिन तुलसी जी की बात, हर हाल में सुनते हैं। तो अगर आपको सुख, दु:ख भग... Read more
Logo
हिंदू धर्म में शंख का बहुत महत्व होता है। ऐसी मान्यता है कि इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है। वहीं विज्ञान की माने तो अगर रोजाना सुबह-शाम की पूजा में शंख बजाया जाए तो लोग भी कम बीमार पड़ते हैं।  वैसे तो हम सभी इस बात से वाकिफ ही हैं कि शंख अलग-अलग प्रकार के होते हैं, और अब आज हम हम आपको एक खास प्रकार के शंख के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे तिजोर... Read more
Logo
नवरात्रि के पर्व का हिंदू धर्म में काफी महत्व है। सभी घरों में नौ दिनों तक मां दुर्गा की पूजा अर्चना की जाती है और व्रत भी रखा जाता है। नवरात्र में नौ दिनों तक चलने वाले इस पर्व में मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा भी की जाती है।  ऐसे में पूजा के लिए कई सामग्री की भी जरूरत नौ दिनों तक पड़ सकती है। नवरात्रि के पूजा में बहुत सारी बातों का ध्यान रखना जरूरी होता है। जी हां, जिससे पूजा सही से स... Read more
Logo
शास्त्रों और पुराणों के अनुसार शारदीय नवरात्र अधिक महत्वपूर्ण है। प्राचीन काल में नवसंवत्सर से आरंभ होने वाला नवरात्र ही अधिक प्रचलित था। नवरात्र का अर्थ है नौ रातें। इन नौ रातों और दस दिनों के दौरान, देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है। नवरात्रि के नौ रातों में तीन देवियों महालक्ष्मी, महासरस्वती तथा महाकाली सहित दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा होती हैं जिन्हें नवदुर्गा भी कहते है... Read more
Logo
यूं तो साल में चार बार नवरात्र आते हैं लेकिन शारदीय नवरात्र अधिक महत्वपूर्ण माने जाते हैं। पुराणों के अनुसार इन नवरात्रों के दौरान अगर आपको कुछ खास संकेत मिलने लगें तो समझ लों कि मां लक्ष्मी के साथ समस्त ब्रहामाण्ड की शक्तियां आप पर मेहरबान हैं।  भारतीय संस्कृति में सोलह श्रृंगार को शुभता का संकेत माना गया है। जिस घर की महिलाएं सोलह श्रृंगार करती हैं, वहां सुख और समृद्धि अपना ब... Read more


Pic

Pic


   DELHI   
Pic
नई दिल्ली (एजेंसी) >>>>>>>> राष्ट्रीय राजधानी ... Read more
   LIFE STYLE   
Pic
बर्लिन (एजेंसी) >>>>>>>> जिंक को वाइन, कॉफी, चाय... Read more